बच्चों में होने वाला कैंसर लक्षण और रोकथाम Cancer Signs and Prevention in Children - Happiness-Guruji | Secret of Healthy and Happier Life

Post Top Ad

Monday, February 17, 2020

बच्चों में होने वाला कैंसर लक्षण और रोकथाम Cancer Signs and Prevention in Children


बच्चों में होने वाला कैंसर लक्षण और रोकथाम  Cancer Signs and Prevention in Children



भारत में हर साल लगभग 60 हजार बच्चों को कैंसर होता है। देष में वयस्क कैंसर रोगियों की सख्ंया का यह करीब पांच फीसदी है जबकि विकसित देषों में बच्चों में कैंसर का अनुपात एक दो प्रतिषत तक होता है। बहरहाल एक अच्छी बात यह है कि बच्चों में होने वाले कैंसर के 80 फीसदी मामले पूरी तरह से ठीक हो जाते हैं बषर्ते सहीं समय पर और अच्छा इलाज मिल जाए। 



https://www.happiness-guruji.com/2020/02/cancer-signs-and-prevention-in-children.html
Add caption

बच्चों में होने वाले प्रमुख कैंसर 


  1.  ब्लड कैंसर बच्चों में सर्वाधिक होने वाला कैंसर है। इसका प्रमुख प्रकार एएलएल और एएमएल है। एएलएल का जल्द पता लगने पर 90 फीसदी उपचार करना संभव है जबकि एएमएल में यह दर 40 से 50 फीसदी है। 
  2. बच्चों को दूसरे क्रम पर सर्वाधिक परेषान हॉजकिंस और नॉन हॉजकिंस लिम्फोमा कैंसर करता है।
  3. रेटिनोंब्लास्टोमा कैंसर ऑंख में होता है और ये नवजात षिषु में एक माह की उम्र में भी आरंभ हो सकता है। धीरे धीरे कैंसर आखों   को खराब कर मस्तिश्क में पहुंच सकता है। जल्दी पता लगने पर ऑख बचाई जा सकती है। 
  4.  बच्चों के मस्तिश्क में बिनाइन ट्यूमर भी हो सकता है। अथवा दिमाग के अलग अलग प्रकार के कैंसर भी हो सकते हैं। इनकी जल्द पहचान हो जाए तो इलाज सभ्ांव है।
  5. विल्म्स ट्यूम रनाम का कैंसर बच्चों को किडनी में होता है।


इसके प्रमुख लक्षण 

  1. बहुत लम्बे समय तक बुखार का रहना।
  2. मसूडे व नाक से खून आता है या त्वचा से खून आने पर चहरे पर नीले धब्बे हो जाते हैं तो यह भी ब्लड कैंसर का एक लक्षण है।
  3. बच्चों का वजन अगर तेजी से कम हो रहा है तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।
  4. पेट में अगर किसी जगह सूजन महसूस हो रही है तो उसे भी नजरअंदाज नही करना चाहिए।



https://www.happiness-guruji.com/2020/02/cancer-signs-and-prevention-in-children.html


किन्हें है अधिक खतरा 

बच्चों में होने वाले अधिकांष कैंसर किसी भी बच्चे को हो सकते हैं। इसमें फैमिली का अतित मायने नहीं रखता। कब और किसको कौनसा कैंसर हो जाए इस बारे में कुछ कहा नहीं जा सकता। जेनेटिक टेस्टिंग के जरिए अगले बच्चे में कैसर की आषंका का पता लगाया जा सकता है। बचाव के तौर पर अच्छा खान पान, षारीरिक सक्रियता की ही सलाह दी जाती है।

इसका उपचार क्या है 


अगर षुरुआती लक्षण नजर आ रहे है व रक्त की आरंभिक जाचों मे भी कैंसर की आषंका समझ आ रही है तो फिर बोन मेरी, सीटी स्कैन, एम आर आई, सोनोग्राफी आदी जाचों की आवष्यकता होती है। इसके उपचार के लिए सर्जरी, कीमोथेरेपी जैसे विकल्प कैंसर के कैंसर के टाइप व स्टेज के अनुसार चुने जाते है।  

                                        



  1.                                                                                



 



                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                           

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad