वज्रासन कैसे करें? इसके फायदे? | Vajrasana Steps and Benefits in Hindi | How to do Vajrasana yoga

हेलो, दोस्तों आप सभी का स्वागत है | आज के इस आर्टिकल "Vajrasana कैसे करें? इसके फायदे? | Vajrasana Steps and Benefits in Hindi | How to do Vajrasana yoga" में हम आपसे Vajrasana से संबंधित कुछ चीजें शेयर करने वाले हैं | जैसे कि Vajrasana कैसे करते हैं? Vajrasana क्या है? Vajrasana से होने वाले Benifits और इसमें बरती जाने वाली सावधानी क्या-क्या है | तो चलिए इस आर्टिकल के माध्यम से सब कुछ जानते हैं |
Vajrasana Steps and Benefits in Hindi | How to do Vajrasana, Vajrasana, Vajrasana benefits, Vajrasana benefits in hindi, Vajrasana steps, Vajrasana yoga, Vajrasana images, also tell about What is yoga on www.happiness-guruji.com
Vajrasana Yoga Steps and Benifits in Hindi

Vajrasana क्या है? - What is Vajrasana yoga in Hindi.

Vajrasana का अर्थ है बलवान स्थिति | पाचन शक्ति, वीर्य शक्ति तथा स्नायु शक्ति देने वाला होने से यह आसन वज्रासन(Vajrasana) कहलाता है | ध्यान मूलाधार चक्र में और श्वास दीर्घ |

वज्रासन करने की विधि (Vajrasana yoga karne ki vidhi) - How to do Vajrasana yoga.

  1. बिछे हुए आसन पर दोनों पैर को घुटने से मोड़कर दोनों एड़ियों पर बैठ जाएँ |
  2. पैर को दोनों अंगूठे से परस्पर लगा कर रखे |
  3. पैर के तलवो के ऊपर नितम्ब रहे |
  4. कमर और पीठ बिलकुल सीधी रहे, दोनों हाथ को कुहनियों से मोड बिना घुटने पर रख दीजिये |
  5. हथेलियों को निचे की और रखिये |
  6. दृष्टि सामने स्थिर कर दें |
  7. ५ मिनट से लेकर आधे घंटे तक वज्रासन (Vajrasana) का अभ्यास कर सकते है |
  8. वज्रासन (Vajrasana) लगाकर पीछे  की तरफ भूमि पर लेट जाने से सुप्त वज्रासन (Supt Vajrasana) होता है |

वज्रासन के लाभ (Vajrasana yoga ke fayde) Benefits of Vajrasana yoga in Hindi.

  1. Vajrasana के अभ्यास से शरीर का मध्य भाग सीधा रहता है |
  2. Vajrasana श्वास की गति मंद पड़ने से वायु बढ़ती है |
  3. आँखों की ज्योति तेज होती है |
  4. वज्रनाड़ी अर्थात वीर्यधारा नाड़ी Vajrasana से मजबूत बनती है |
  5. वीर्य की ऊर्ध्वगति होने से शरीर वज्र जैसा बनता है |
  6. लम्बे समय तक सरलता से यह आसन किया जा सकता है |
  7. Vajrasana से मन की चंचलता दूर होकर व्यक्ति स्थिर बुद्धि वाला बनता है |
  8. शरीर में रक्ताभिसरण ठीक से होता है जिससे शरीर निरोगी एवं सुंदर बनता है |
  9. भोजन के बाद इस आसन में बैठने से पाचनशक्ति तेज होती है,भोजन जल्दी हजम होता है |
  10. Vajrasana के अभ्यास से पेट की वायु का नाश होता है |
  11. कब्ज दूर होकर पेट के तमाम रोग नष्ट होते है |
  12. पांडुरोग से मुक्ति मिलती है |
  13. Vajrasana se रीड, कमर,जांघ, घुटने और पैरों में शक्ति बढ़ती है | कमर और पैर का वायु रोग दूर होता है |
  14. स्मरणशक्ति में वृद्धि होती है |
  15. स्त्रियों के मासिक धर्म की अनियमितता जैसे रोग दूर होते है |
  16. Vajrasana ke benefits - शुक्रदोष, वीर्यदोष, घुटनो का दर्द आदि का नाश होता है |
  17. स्नायु पुष्ट होते है | स्फूर्ति बढ़ने के लिए एवं मानसिक निराशा दूर करने के लिए यह आसन उपयोगी है | 
  18. ध्यान के लिए यह आसन उत्तम है |
  19. Vajrasana ke अभ्यास से शारीरिक स्फूर्ति एवं मानसिक प्रसन्नता प्रकट होती है |
  20. दिन प्रतिदिन शक्ति का संचय होता होता है इसलिए शारीरिक बल में खूब वृद्धि होती है |
  21. काग का गिरना अर्थात गले के टांसिल्स, हड्डियों के पोल आदि स्थानों में उतपन्न होने वाले श्वेतरक्त की संख्या में वृद्धि होने से आरोग्य का साम्राज्य स्थापित होता है | फिर व्यक्ति बुखार से, सिरदर्द से, कब्ज से, मंदाग्नि या अजीर्ण जैसे छोटे-छोटे किसी भी रोग से पीड़ित नहीं रहता, क्योकि रोग आरोग्य के साम्राज्य में प्रविष्ट होने साहस ही नहीं कर पाते |

Final words - So you can try this Vajrasana Yoga and take benefits by this health article "वज्रासन कैसे करें? इसके फायदे? | Vajrasana Steps and Benefits in Hindi | How to do Vajrasana yogathank you...

No comments:

Powered by Blogger.