हलासन कैसे करें? इसके फायदे? | Halasana Steps and Benefits in Hindi | How to do Halasana

हेलो दोस्तों आप सभी का स्वागत है | आज के इस आर्टिकल "हलासन कैसे करें? इसके फायदे? | Halasana स्टेप्स and Benefits in Hindi | How to do Halasana" में हम आपसे Halasana से संबंधित कुछ चीजें शेयर करने वाले हैं | जैसे कि Halasana कैसे करते हैं? Halasana क्या है? Halasana से होने वाले लाभ और इसमें बरती जाने वाली सावधानी क्या-क्या है | तो चलिए इस आर्टिकल के माध्यम से सब कुछ जानते हैं |
Halasana Steps and Benefits in Hindi | How to do Halasana
Halasana Yoga Steps and Benefits

हलासन क्या है? - What is Halasana?  Halasana Steps and Benefits in Hindi

इस आसन में शरीर का आकार हल जैसा बन जाता है इसलिए इसको हलासन/ Halasana कहते हैंध्यान विशुद्ध चक्र में सास रेचक और बाद में दीर्घ स्वाभाविक | 

हलासन करने की विधि (Halasana yoga karne ki vidhi) - How to do Halasana yoga

  1. किसी समतल भूमि पर आसन बिछाकर उसमें लेट जाएं चित अवस्था में |
  2. दोनों हाथ शरीर को लगे रहे अर्थात शरीर से चिपके हुए रहे |
  3. अब रेचक करें अर्थात सांस को बाहर निकाल दें |
  4. दोनों पैरों को एक साथ धीरे-धीरे ऊंचा उठाते जाएं | आकाश की तरफ पैरों को पूरा उठाकर फिर पीछे सर की तरफ झुका दीजिए |
  5. ध्यान रहे पैर बिल्कुल सीधे तने हुए होना चाहिए और पंजे जमीन से चिपके हुए होना चाहिए जैसा कि आपको ऊपर इमेज में दिखाया गया है |
  6. आप का जबड़ा छाती से लगाकर रखें | आपको थोड़ी परेशानी होगी लेकिन यह करना जरूरी है |
  7. चित्त वृत्ति को अर्थात ध्यान को विशुद्ध चक्र (विशुद्ध चक्र का मतलब कंठ या गला) में स्थिर करें |
  8. आप Halasana का अभ्यास दो-तीन मिनट से लेकर 20 मिनट तक समय की अवधि बढ़ा सकते हैं | 
Halasana Steps and Benefits in Hindi | How to do Halasana
Halasana Steps


हलासन के लाभ (Halasana yoga ke fayde) - Benefits of Halasana yoga in Hindi

  • Halasana के अभ्यास से अजीर्ण, कब्ज, अर्श, थायराइड का अल्प विकास, अंग विकार, असमय आया हुआ बुढापा, दमा, कफ, रक्त विकार आदि सभी बीमारियां दूर होती है |
  • इस Halasana से लिवर अच्छा होता है उस की कार्य क्षमता बढ़ती है |
  • Halasana के अभ्यास से आपकी छाती का विकास होता है |
  • श्वसन क्रिया तेज होकर ऑक्सीजन से शुद्ध रक्त बनता है |
  • गले के दर्द, पेट की बीमारी, संधिवात आदि दूर होते हैं |
  • Halasana के अभ्यास से कुछ ही समय में पेट की चर्बी कम होने लगती है |
  • यह आसन सिर दर्द दूर करने में बहुत लाभदायक है |
  • वीर्य विकार समाप्त होता है |
  • Halasana के अभ्यास से हमारे शरीर में आवश्यक मात्रा में केमिकल रिलीज होते हैं जिसके फलस्वरूप खराब विचार आना बंद होते हैं |
  • नाड़ी तंत्र शुद्ध बनता है |
  • शरीर बलवान और तेजस्वी बनता है |
  • गर्भिणी स्त्रियों के अलावा हर एक को यह आसन करना चाहिए |
  • रीड की हड्डी में कठोरता होना वृद्धावस्था की निशानी होती है |
  • अगर आप नित्य तौर पर हलासन करते हैं तो रीड की हड्डी लचीली बनती है जिससे आप में युवावस्था की शक्ति, स्फूर्ति, स्वास्थ्य और उत्साह बना रहता है |
  • मेरुदंड संबंधी नाड़ियों के स्वास्थ्य की रक्षा होकर वृद्धावस्था के लक्षण जल्दी नहीं आते |
  • जठर की नाड़ियों को शक्ति प्राप्त होती है |
  • जठर की मांसपेशियों तथा पाचन तंत्र के अंगों की नाड़ियों की दुर्बलता के कारण अगर मंदागिनी एवं कब्ज हो तो Halasana से दूर हो जाते हैं |
  • कमर पीठ एवं गर्दन के रोग नष्ट हो जाते हैं लिवर और प्लीहा बढ़ गए हो तो हलासन से सामान्य अवस्था में आ जाते हैं |
  • काम केंद्र की शक्ति बढ़ती है |
  • अपानशक्ति का उत्थान होकर उड़ान रूपी अग्नि का योग होने से वीर्य शक्ति उर्ध्वगामी बनती है |
  • Halasana का अभ्यास करने पर वीर्य का स्तंभन होता है |
  • Halasana के अभ्यास से अंडकोष की वृद्धि, पेनक्रियाज, अपेंडिक्स आदि रोग ठीक हो जाते हैं |
  • थायराइड ग्रंथि की क्रियाशीलता बढ़ती है |
  • Halasana के अभ्यास के दौरान अगर ध्यान किया जाता है तो विशुद्ध चक्र जागृत हो जाता है |
Final words - So you can try this Halasana Yoga and take benefits by this health article "हलासन कैसे करें? इसके फायदे? | Halasana Steps and Benefits in Hindi | How to do Halasana" thank you...

No comments:

Powered by Blogger.